नज्म

 



गुनगुनी सी धूप अब होने लगी।
शबनमी यादें अंतस छूने लगी।


भींगती हैं नर्म - नर्म दूव अब,
तृप्त होती भाव सुधा पीने लगी।


तन से जो अब छू रहा शीतल समीर,
अनुभूतियों की गुदगुदी होने लगी।


सिंदूरी सी हो उठी है साँझ अब,
मन में कहीं हरशृंगार कली झरने लगी।


धानी चुनर लहरा उठी सृष्टि की 'उषा',
मन में नव उमंग की बयार सी बहने लगी।


       डॉ उषा किरण
    पूर्वी चंपारण, बिहार


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image