कदम तेरे बढ गए

 


 



नज़रों को झुकाया
कदमों को समेटा है
ठहर गए कदम
कुछ पल के लिए
पर क्या तू तो रुका नहीं
कदम तेरे बढ़ गए
निकल गया आगे मुझे से तू
देखा नहीं अनदेखा किया
या पहचाना नहीं तूने मुझे
भुला दिया लगता  है
या भूल गया मुझे तू
छोड़ो जाने दो
चलो इतना सुकु रहा
करीब से तो गुजारा तू✍️
                          गीत शैलेन्द्र


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image