जिन्दगी

 



कभी धूप कभी छांव है जिन्दगी,
कभी शहर कभी गाँव है 
जिन्दगी।


कभी माझी तो कभी ,
पतवार है जिन्दगी।


कभी कहानी तो कभी ,
अखबार है जिन्दगी।


कभी किनारा तो कभी,
दरकिनार है जिन्दगी।


कभी गीत तो कभी ,
मलहार है जिन्दगी।


कौशल बंधनां पंजाबी।(स्वरचित)


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image