घुँघटा

 



रह रह के उनकर घुँघटा   उड़ेला।
एक झलक पावेला मन तरसेला।


कइसन  आलम  बा प्यार  के हो
एक नजर ला  इ  नजर  तरसेला।


पता ना केकरा किसमत में बाड़ी
इहे  सोच सोच के  मन  सिहरेला।


छुअत  हवा के  खुशबू  से  हमरो
होखत  नाशा से  मनवा बहकेला।


सामने  जब  उ  बइठस हमरा जी
सटाईं  छतिया, मनवा   मचलेला।


सोंची  भेंट  करीं   हम  उनका  से
देखते मनवा हमर  खुदे सिमटेला।


सपना जे  देखनी हम  उनकर जी
पूरा  ना  भइल,  उ  सपने   रहेला।


हे  गणपति!  हमरो   आस   पुराईं
उनके  आस  में  दिलवा धड़केला।


रह  रह  के  उनकर   घुँघटा उड़ेला
एक  झलक  पावेला मन  तरसेला।


©️®️
गणपति सिंह
छपरा बिहार


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
बाराबंकी के ग्राम खेवली नरसिंह बाबा मंदिर 15 विशाल मां भगवती जागरण बड़ी धूमधाम से मनाया गया
Image
सफेद दूब-
Image