गहरी  खुशी  मुझे  मिलती है 

 



मैने देखा है सूरज को 
जितना उपर आसमान में, 
उतना सागर में पलता है ।
मन्थर-मन्थर  चलते-चलते  
गहरे सागर में  जलता है  ।
क ई बार चाहा है मैने 
गहरे सागर  का रवि पकडू ,
किन्तु  न जाने क्यों  अक्सर  वो
छूने से पहले ढलता है ।
मुझको इसका दर्द नहीं  कि
देखा रवि  को सागर  जाते ,
गहरी खुशी मुझे  मिलती है, 
जब देखा सागर को रवि  पाते ।
#########अर्चना,


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
बाराबंकी के ग्राम खेवली नरसिंह बाबा मंदिर 15 विशाल मां भगवती जागरण बड़ी धूमधाम से मनाया गया
Image
सफेद दूब-
Image