तुम होती तो बताता तुम्हें



जया लक्ष्मी 

तुम होती तो मैं बताता तुम्हें

कैसे - कैसे मैं सजाता तुम्हें...


आँखों में रात का काजल

होठों पर शाम की सुर्खी,

गालों पर सुबह की लाली मलकर

चमकीली धूप से नहलाता तुम्हें।


तुम होती तो मैं बताता तुम्हें

कैसे - कैसे मैं सजाता तुम्हें...


कानों में सांसों का कुंडल

नाक मे ओस के मोती,

गले में बाहों का हार डालकर

कलाई में प्यार पहनाता तुम्हें।


तुम होती तो मैं बताता हूं

कैसे - कैसे मैं सजाता तुम्हें...


पतली कमर में लहर का घेरा

पांवों में धड़कन की पायल,

माथे पर सितारों का आंचल सजा

मनमीत अपना बनाता तुम्हें।


तुम होती तो ये बताता तुम्हें

कैसे - कैसे मैं सजाता तुम्हें...


बालों में फूलों का गजरा

उंगलियों में बारिश की बूंदें,

हथेलियों में एहसास का रंग भर

चांद सिलकर पहनाता तुम्हें।


तुम होती तो मैं बताता तुम्हें

कैसे - कैसे मैं सजाता तुम्हें...


सपनों का एक घर बनाकर

बादलों से उसकी छत सजाकर,

दामन में भरकर इंद्रधनुषी रंग

संग अपने ले आता तुम्हें।


तुम होती तो ये बताता तुम्हें

कैसे - कैसे मैं सजाता तुम्हें...


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image