हरियाला सावन


गीता पांडे "अपराजिता "

झूला पड़ गया देखो सखी निमिया की डार।

 हरी-भरी यह धरा दिखे सावन की फुहार।।


 सावन पर यौवन छाया बना हुआ दीवाना।

 दादुर मोर शोर करे पपिहा पिऊँ तराना।

 मनभावन मौसम लागे आया तीज त्यौहार।

 हरी भरी धरती दिखे सावन की फुहार ।।


चुड़ियांँ चुनर पहनी हरी मेंहंँदी रची हाथ। ।

मिलजुल कर कजरी गाती सब सखियां हैं साथ ।

हंँसी ठिठोली सब है करती साजे सब श्रृंगार ।

हरी-भरी यह धरती दिखे सावन की फुहार। ।


गीत प्रीति के गाती रही भावो भरे अपार ।

खन खन कंगना खनके पायल करे झंकार ।

नाम सजन का हाथों लिखा मिले असीमित प्यार ।

हरी-भरी यह धरती दिखे सावन की फुहार।।


 सावन का महीना शिव को लगता अति प्यारा ,

कांँवरियों की भीड़ बढ़े लगे हैं जय कारा।

 शिव मंदिर पर दिखती है भक्तों की कतार ।

हरी भरी धरती दिखे सावन की फुहार।।


 मनोकामना पूर्ण करें बाबा भोलेनाथ।

 तीज का व्रत रखे सुहागिन सिर बाबा का हाथ।

 शंभू के आशीष से महके सारा संसार।

 हरी-भरी यह धरती दिखे सावन की फुहार ।।

गीता पांडे "अपराजिता "

रायबरेली उत्तर प्रदेश

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image