कान्हा यमुना के तट पर आना



उदय किशोर साह 

कान्हा यमुना के तट पर आना

कान्हा यमुना के तट पर आना


कदम्ब के पेड़ पर

पत्तों में छिपकर

बाँसुरी की ध्रुन है बजाना

कान्हा यमुना के तट पर आना


भोर जब हो जाये

बाल सखा बुलाये

गईया चराने जाना

कान्हा यमुना के तट पर आना


सूरज ढल जाये

तारे नजर आये

वापस घर है आना

कान्हा यमुना के तट पर आना


बाँसुरी की धुन पर

गोपियों के संग संग

रास है तुमको रचाना

कान्हा यमुना के तट पर आना


माखन चुराये

मैया यशोदा धमकाये

मुहल्ले में कहीं छुप जाना

कान्हा यमुना के तट पर आना


उदय किशोर साह

मो० पो० जयपुर जिला बाँका बिहार

9546115088

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image