कान्हा यमुना के तट पर आना



उदय किशोर साह 

कान्हा यमुना के तट पर आना

कान्हा यमुना के तट पर आना


कदम्ब के पेड़ पर

पत्तों में छिपकर

बाँसुरी की ध्रुन है बजाना

कान्हा यमुना के तट पर आना


भोर जब हो जाये

बाल सखा बुलाये

गईया चराने जाना

कान्हा यमुना के तट पर आना


सूरज ढल जाये

तारे नजर आये

वापस घर है आना

कान्हा यमुना के तट पर आना


बाँसुरी की धुन पर

गोपियों के संग संग

रास है तुमको रचाना

कान्हा यमुना के तट पर आना


माखन चुराये

मैया यशोदा धमकाये

मुहल्ले में कहीं छुप जाना

कान्हा यमुना के तट पर आना


उदय किशोर साह

मो० पो० जयपुर जिला बाँका बिहार

9546115088

Popular posts
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
गीता सार
सफलता क्या है ?
Image
श्री लल्लन जी ब्रह्मचारी इंटर कॉलेज भरतपुर अंबेडकरनगर का रिजल्ट रहा शत प्रतिशत
Image