बचपन की यादें


नंदिनी लहेजा 

जीवन सफर का प्रथम  चरण  है बचपन

   पवित्रता व् सादगी  का दर्पण  है बचपन

अल्हड़ता  और चंचलता  से भरा हुआ

    ईश्वर  का एक रूप होता है बचपन

पीछे मुड़  जब बचपन को हम निहारते अपने

    लगता क्यों जल्दी से छूटा अपना बचपन

      अनगिनत  यादों को समेटे हुए,

आज फिर याद आ रहा अपना  बचपन

     घंटो खेलते रहना सखियों  संग अपने

वो लंगडी  वो फुगड़ी वो लुकाछुपाई

    वो माँ का बुलाना ,कहना अब तो कर लो पढ़ाई

पापा के पहले घर पहुँच जाना अपने

  डर  मन में रहना की कही हो न पिटाई

वो दादी से नित नई कहानी सुन कर सोना

   नये खिलोनो के लिए जिद करना और रोना

     उन प्यारी यादों में खोकर,आज फिर जी उठा

इन अखियों  में बचपन


 नंदिनी लहेजा 

रायपुर(छत्तीसगढ़)

स्वरचित मौलिक

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image