डॉ अनुज कुमार चौहान "अनुज" कलम से


दोहा - गीत

========

अनुशासन मन में रमे, 

रहे सत्य का ज्ञान ।

राग कलुषता छोड़ दें,

करें नहीँ अभिमान ।।

सत्य सहारा ही बने,

रखें ईश का ध्यान ।

व्यर्थ विमर्षक हों नहीं,

देश -प्रेम संज्ञान ।।

विनय शील गुण धर्म हो,

हो सबका सम मान ।

अनुशासन मन में रमे,

रहे सत्य का ज्ञान ।।

सत्याग्रह की आड़ में,

हो न कभी नुकसान ।

गरिमा धूमिल हो नहीं,

लोकतंत्र की शान ।।

हट रट से हल हो नहीं,

कहते सन्त सुजान ।

अनुशासन मन में रमे ,

रहे सत्य का ज्ञान ।।

जन-जीवन खुशियाँ वहैं,

विकसित हो विज्ञान ।

प्रगति किसी की ना रुके,

टूटे नहीं विधान ।।

भाव अनुज मन प्रेम का,

करो सदा गुणगान ।

अनुशासन मन में रमे,

रहे सत्य का ज्ञान ।।

 


अनुजयी दोहे

 -(झलकृत शूल उसूल )

====================

रोते हैं दिखते नहीं,

बाबूजी मुस्कात ।

अंगुल पकड़े थे कभी,

छोड़ चले वह हाथ ।।

दिन दीखे अब रात सा,

बिखर गये सब साज ।

दर्पण खूब निहारते ,

भूल रहे पल आज ।।

राज सिखाये थे जिसे,

वही हो गये राज ।

हाथ पैर बल खा रहे,

बिगड़ रहे सद्काज ।।

साथ रहे टूटी छड़ी,

समय सिखाये लाज ।

कद ऊँचा लगता जहाँ,

छिने वहीं सर ताज ।।

प्रतिक्षण मन बस सोचता,

शहर रहा मगरूर।

नज़र परायी थी सखे,

डगर लगे मजबूर ।।

साज ताज नाराज सब,

विफरे प्यारे फूल ।

बाबूजी आँखन तले ,

झलकृत शूल उसूल ।। 


अनुजयी दोहे 

==========


मधुवन झूमे गूंजता,

ज्यों मुरली का शोर ।

उपवन महके फाग सा,

धुनि अपनी चितचोर ।।

डगर भूल पनघट गई,

भूली मटकी नीर ।

याद पलों की ना रही,

आके यमुना तीर ।।

धुनि सुन बेसुध राधिका,

भूले बिसरे काम ।

श्याम बजाई बाँसुरी,

मोह लियो ब्रजधाम ।।



अनुजयी दोहे ---- 

✍🏽 साकी 

===========


साकी हाथन में लिये,

प्याला महक गुलाब ।

अधरन से छूलूँ गले ,

हाला प्रेम शबाब ।।

घूँट-घूँट से बढ़त है,

आशा प्यास नकाब ।

मौन रहें ताके नयन ,

निकले जुगल जबाब ।।

गला तरा-तर होत जब,

साकी मन समझात ।

किले बनें वक्तव्य के,

पाठ पढ़े पढ़वात ।।

इक- इक में दो दीखते,

दर्पण झूँठ खिताब ।

साकी पुस्तक सामने,

वाचन लगे हिसाब ।। 


अनुजयी दोहे

=========


संयम सुन्दर सार्थक,

सहज ध्यान सम्मान ।

मन में ईश्वर आस्था,

यत्न परिश्रम ज्ञान ।।

दया विनय चादर पहन,

उत्तम सजे विचार ।

अहम् लोभ दूरी बसे,

करूँ सदा उपकार ।।

ह्रदय प्रेम धारा वहे,

जगे समर्पण भाव ।

त्याग राग हो पल्लवित,

करुणा हो बुनियाद ।।



गीत --


राग में खो गई रागिनी आपकी 

===========

राग में खो गई ,रागिनी आपकी ।

मान ली जान ली,दामिनी आपकी ।।

पास आती दिखी ,आज गाती दिखी ।

आशिकी भी भली ,आजमाती दिखी ।।

चांद पाया सजी , चाँदनी आपकी ।

राग में खो गई,रागिनी आपकी ।।

राह मोड़े दिखे,भाव थोड़े दिखे ।

शाम को जाम के,पाँव ओढ़े दिखे ।।

कांपती भांपती ,बानगी आपकी ।

राग में खो गई, रागिनी आपकी ।।

ज्ञान की रीति सी,शान संगीत सी ।

ताल ही ना मिली,हार भी जीत सी ।।

ख्वाब बीता बुनूँ ,जिन्दगी आपकी ।

राग में खो गई  , रागिनी आपकी ।।

भूल को भूलती ,बेरुखी आपकी ।

पास आके पढ़ी,बेबसी आपकी ।। 

रात सी भा गई ,रोशनी आपकी ।

राग में खो गयी ,रागिनी आपकी ।। 


गीत

====

माखन चोर मुरलिया में ,जग स्वर खेल रहे ।

ग्वाल बाल सब मोह लिए,गल अलबेल रहे ।।

आते-जाते ध्याते मुनि,पुलकित हर्षायें ।

सोते-जगते गीता मय,रसपान करायें ।।

सन्त चरण धरती निर्मल,बढ़ती बेल रहे ।

माखन चोर मुरलिया में, जग स्वर खेल रहे ।।

जहाँ जन्म कान्हा लीना,पावन जेल रहे ।

गोकुल डगर बढ़त राधे ,तन-मन झेल रहे ।।

माथे रज ब्रज भव्य सजे ,जीवन मेल रहे ।

माखन चोर मुरलिया में ,जग स्वर खेल रहे ।।

जन्म भूमि मथुरा आये ,सावन मुस्काये ।

नयन दरश कर जल छाये , आँगन इतराये ।।

जग-भ्रम अनुज भवन-उलझन ,तृण अठखेल रहे ।

माखन चोर मुरलिया में ,जग स्वर खेल रहे ।।

माखन चोर मुरलिया में ,जग स्वर खेल रहे ।

ग्वाल बाल सब मोह लिए ,गल अलबेल रहे ।। 


पावन परम ,शहादत लिख दी 

             ( गीत )


दिल की नई , इबारत लिख दी ।

पावन परम , शहादत लिख दी ।।

वीरो कभी ,भूल ना पायें ।

बलिदानी वह , दिन दुहरायें ।

जान देश-हित , चाहत लिख दी । 

पावन परम , शहादत लिख दी।।

मातृभूमि का करुणिम पर्वा ।

कोटिश नमन , वीरता जज्बा ।।

गोद -भारती , राहत लिख दी ।

पावन परम , शहादत लिख दी ।।

वीर भगत  ,सुखदेव  राजगुरु ।

फाँसी चड़त, शान अरुणा अरु।।

हर्षित वतन ,इबादत लिख दी ।

पावन परम , शहादत लिख दी ।।

शोकाकुल है , मात भारती ।

अंश भवानी ,करत आरती ।।

मौत सुहानी ,आदत लिख दी ।

पावन परम ,शहादत लिख दी ।।

दिल की नई ,इबारत लिख दी ।

पावन परम , शहादत लिख दी ।।

 


अश्क समुंदर,सम गहराये

          !! गीत !!

================

मेघ गीत नभ,जब-जब गाये ।

अश्क समुंदर ,सम गहराये ।।

नयनों लहरें,उमड़त आए ।

बीचों- बीच ,नाव  मुस्काए ।।

प्रेम -रीति जग,मन घवराये ।

अश्क समुंदर ,सम गहराये ।।

जन-जन सुखी,प्रीत शरमाये ।

रब की दुआ, मीत गण आये ।।

जीते आप , हार दुहराये ।

अश्क समुंदर ,सम गहराये ।।

जीवन -मरण ,खेल अठखेली ।

ह्रदय भावुक , मेल सहेली ।।

राहें  सत्य ,चलत घर पाये ।

अश्क समुंदर,सम गहराये ।।

चालों की हर , चाल सुहानी ।

भावों की सब ,विधा पुरानी ।।

सीखत अनुज ,गीत लिख भाये ।

अश्क समुंदर ,सम गहराये ।।

मेघ-गीत नभ ,जब -जब गाये ।

अश्क समुंदर ,सम गहराये ।।


।।  गीत ।।


कविता प्रण , विश्वास जगाती ।

ख्वाब चित्र , अहसास प्रभाती ।।

सृजन छन्द ,महिमा दर्शाये ।

मनोवेग , आभास कराये ।।

कल्पित कभी, सत्य दुहराती ।

कविता प्रण , विश्वास जगाती ।।

ह्रदय पुलकित,राग सजाए ।

धूप-छाँव , अनुराग लुभाए ।।

पल-पल राग , नया गढ़ जाती ।

कविता प्रण , विश्वास जगाती ।।

पुष्प-वाटिका ,मरुथल गाये ।

राजा कभी ,रंक दिखलाए ।।

तृण-तृण गाती,क्षण-क्षण भाती।

कविता प्रण ,विश्वास जगाती ।।

खिलती कली ,कभी शरमाये ।

भावुक भुवन ,तरुण तड़पाये ।।

मानव भावों ,लय गहराती ।

कविता प्रण , विश्वास जगाती ।।

वर्तमान को, राह दिखाये ।

जीने की ,हर चाह सिखाये ।।

सदियों के, इतिहास बताती ।

कविता प्रण ,विश्वास जगाती ।

कभी खुशी गम, पाठ पढाये ।

आशाओं के ,दीप जलाये ।।

जन-मन प्रभु ,तीर्थ रम जाती ।

कविता प्रण ,विश्वास जगाती ।।

नदियाँ कभी, प्रबल वह जाए ।

शहर गाँव ,गलियाँ कहलाए ।।

दर्शन पथिक ,राह सम थाती ।

कविता प्रण , विश्वास जगाती ।।

शब्द सृष्टि का,प्रणय कराये ।

सागर में , लहरें ठहराये ।।

सुबह-शाम ,चाहत तरसाती।

कविता प्रण,विश्वास जगाती ।।

चांद सितारे ,दिनकर लाए ।

तोता -मैना ,नाच नचाये ।।

बचपन बाल, सखा मुस्काती ।

कविता प्रण,विश्वास जगाती ।।

नफरत द्वार ,आग इतराये ।

प्रेम -पुंज मन ,फाग सुहाये ।।

अनुज-गीत ,मधुरिम बरसाती।

कविता प्रण ,विश्वास जगाती ।।

✍🏽 डॉ अनुज कुमार चौहान "अनुज" 

अलीगढ़, उत्तर प्रदेश ।

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image