संतोष

  


नंदिनी लहेजा

अनगिनत व्यस्तताओं में, घिर से गए हम। 

कर्मपथ पर चलते चलते, थक से गए हम। 

नित नया दिन, एक नई चुनौती लिए खड़ा है ,

उनको पार करते करते, ऊब से गए हम। 

सोचते है, क्यों नहीं करते संतोष हम मानव,

बस अधिक की चाह में, भागते गए से हम। 

इक बार कर के देख लें, संतोष जीवन में,

आत्मिक आनंद का ,अनुभव करेंगे हम। 

माना प्रतियोगिताएं का दौर है,

हर क्षण हमारे सामने, प्रतियोगी खड़ा है। 

चाहता मन सदा सर्वश्रेष्ठ करने को,

संतोष का दीपक कहाँ , किसी के मन में जला है। 

पर इक बार संतोष को, जगा तो भीतर में। 

ईश्वर को पाएगा, अपने समीप में। 

वो दिखाएगा तुझे, सही राह और मंजिल। 

बस कर्मों को रखना सदा, तो नेक हर मोड़ पर। 


नंदिनी लहेजा

रायपुर(छत्तीसगढ़)

स्वरचित मौलिक अप्रकाशित

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image