गजल



मनोहर सिंह चौहान मधुकर

वो  आंखो  मै  छाया  रहता   है।

वो   गैर   है  अपना  लगता  है।।


अल सुबह  ऐसे  चला  आता है।

जैसे  पूरी   रतिया  जगता   है।।


ख्वाबों  में  आ वो  बतियाता  है।

दूर  होकर  पास  सा  लगता हैं।।


होगे   रूबरू   तब   क्या  होगा।

ये मन धकधक सोचा करता है।।


दीदार  को  प्यासी   मेरी  आंखे।

दिल मीठे सपने  बुना करता है।।


आंखो   की  नींद  उड़  जाती हैं।

जब दिल उसको छूने लगता हैं।।


आखिर  चाहता  क्या  है मनहर।

दिलवर एकटक देखा करता है।।

*****

कवि मनोहर सिंह चौहान मधुकर

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image