परम पूज्य गुरदेव से एक प्रार्थना

 


डाःमलय तिवारी

इतनी कृपा हे गुरुवर, एक बार कीजिये। 

फंसी है भंवर में कस्ती, प्रभु पार कीजिये। 

हम पाप पंक डूबे, तू हो पाप पुंज नाशक, 

तुम तो हो औघड़ दानी, हम दीन हीन याचक, 

पीड़ा पतन से जग का, अब  उद्धार कीजिये। 

लाखों को तुमने स्वामी, भव सिन्धु से उबारा, 

जानें कितने गिरे हुए को, तुमने दिया सहारा, 

नाथ इस अनाथ की भी, प्रार्थना स्वीकार कीजिये। 

दाता तुम्हारे दर से, कोइ गया न खाली, 

चरणों हम भी तेरे, बैठे हैं बन सवाली,, 

मुझ पर भी अपने प्यार की, रसधार कीजिये। 

        डाःमलय तिवारी

 बदलापुर जौनपुर

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image