रोशनी घर लाइए



अनुपम चतुर्वेदी

दर्द से अब उबर आइए,

जिन्दगी में संवर जाइए।


उम्मीद से ही छंटेगा अंधेरा,

रोशनी धीरे-धीरे घर लाइए।


सिर्फ प्यार से पेट भरता नहीं,

इस सोच पर कहर ढाइए।


प्रेम से भर जाती हैं झोलियां,

बस प्यार में उतर जाइए।


मां की लोरी से प्यारा कौन है?

बस प्यारे रिश्ते में ठहर जाइए।


अनुपम चतुर्वेदी, सन्त कबीर नगर, उ०प्र०

रचना मौलिक, सर्वाधिकार सुरक्षित

मोबाइल नं-9936167676

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
स्वयं सहायता समूह ग्राम संगठन का गठन
Image
पीर के तीर
Image