बेटी बहू में फर्क कैसा?

विमल सागर

बेटी बहू फर्क कैसा

  आकर्षण दुनिया सब कैसा

   विवाह बेटी खुशियां मनायें  

     खर्चा अधिक शादी दुख कैसा?

*************************

दान पुण्य दहेज कहाया

  दहेज बिन क्या शादी सुख कैसा

    बहू संस्कार लाये क्यों

      बेटी बन रंग दिखाये तो कैसा?

**************************

बेटी अंतर्मन दुखी हुईं

  बहू करे आज की नाटक 

    नहीं समझ यह सुख कैसा?

    कहे बहू बेटी में फर्क कैसा?

**************************

देखीं मरतीं बेटी बलि नहीं दहेज

 मरतीं हैं बेटी बंदिश पाकर घर की

   कुरीती कदम पुरूष संग कैसा?

    बेटीबनूँ चाह बहू तो भ्रम कैसा?

**************************

   शोषण -शोषित वही हुई 

     जिसमें विश्वास संस्कार सभी थे

     घुटी चींख निकली ना बाहर

  सिखायें संस्कार व्यर्थ बेटी कैसा?

        **********************        

  बेटी बहू में फर्क कैसा

   जाना सबने सबने समझा तो

     नारी नारी शोषण क्यों कैसा?

      बेटी बहू में फर्क कैसा ?

विमल सागर

उत्तर प्रदेश

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image