ग़ज़ल

  


सुभाषिनी जोशी 'सुलभ'

खुशबू नहीं आती है काजग  के  फूल  से, 

फूल असली  हों तो ताजगी आ जाती है।


एक  आत्मा  होती  है  सबके  शरीर  में, 

चिरागों  की  जिन्दगी  तेल और बाती है।


नकली  भी  तो हो सकती है इन्सानियत, 

नेकी  और आदमियत सबको बुलाती है।


अपने   और   पराये   में  कैसे  फर्क  करें,

चापलूसी  खुशामद  सभी को  लुभाती है।


'सुलभ'  भलाई  के भले कोई पर्याय नहीं, 

कुटिलता अपना फर्ज  बखूबी निभाती है।


सुभाषिनी जोशी 'सुलभ'

इन्दौर मध्यप्रदेश

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image