ग़ज़ल

  


सुभाषिनी जोशी 'सुलभ'

खुशबू नहीं आती है काजग  के  फूल  से, 

फूल असली  हों तो ताजगी आ जाती है।


एक  आत्मा  होती  है  सबके  शरीर  में, 

चिरागों  की  जिन्दगी  तेल और बाती है।


नकली  भी  तो हो सकती है इन्सानियत, 

नेकी  और आदमियत सबको बुलाती है।


अपने   और   पराये   में  कैसे  फर्क  करें,

चापलूसी  खुशामद  सभी को  लुभाती है।


'सुलभ'  भलाई  के भले कोई पर्याय नहीं, 

कुटिलता अपना फर्ज  बखूबी निभाती है।


सुभाषिनी जोशी 'सुलभ'

इन्दौर मध्यप्रदेश

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image