फिज़ा में बिखर जाने दो...

 


उषा शर्मा त्रिपाठी

बड़े सब्र से रोक रखा है मै ने कि, इन अश्कों को अब आंखों से बह जाने दो! 


बस एक लम्हा हुं मैं तेरी ज़िंदगी का कि, मुझे अपने पहलू से गुजर जाने दो! 


बेरहम है ये दुनियां की रस्में कि, धुआं बन के मुझको फिज़ा में बिखर जाने दो! 

                    

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image