उपवन

  डॉ मधुबाला सिन्हा

बिन मुख खोले बोल गया सब

नैनों की मर्यादित भाषा

जीवन-घन सहज अनुग्रहित

जगा गया जीवन में आशा


पल-पल याद वही है आता

है तुमने जो समझाया

पथ के काँटे चुन चली मैं

है राह तूने जो दिखलाया


कभी अकेले घूमता मन था

आज साथी है साथ चला

कभी नहीं यह साथ छूटा था

मन यह आस है पाल चला


उपवन भरा भौरें और तितली

मन को कभी लुभाया ना

जो तू साथ मिला जीवन में

उनको कभी अपनाया ना


भर्मित नहीं मन की ज्वाला

पथिक यह भी बतला जाना

हो जिस राह क़दम बढ़वाया

उस पर साथ ले तुम जाना

         ★★★★★

© डॉ मधुबाला सिन्हा

मोतिहारी,चम्पारण

6 जुलाई 2021

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image
स्वयं सहायता समूह ग्राम संगठन का गठन
Image
मधुर वचन....
Image