उपवन

  डॉ मधुबाला सिन्हा

बिन मुख खोले बोल गया सब

नैनों की मर्यादित भाषा

जीवन-घन सहज अनुग्रहित

जगा गया जीवन में आशा


पल-पल याद वही है आता

है तुमने जो समझाया

पथ के काँटे चुन चली मैं

है राह तूने जो दिखलाया


कभी अकेले घूमता मन था

आज साथी है साथ चला

कभी नहीं यह साथ छूटा था

मन यह आस है पाल चला


उपवन भरा भौरें और तितली

मन को कभी लुभाया ना

जो तू साथ मिला जीवन में

उनको कभी अपनाया ना


भर्मित नहीं मन की ज्वाला

पथिक यह भी बतला जाना

हो जिस राह क़दम बढ़वाया

उस पर साथ ले तुम जाना

         ★★★★★

© डॉ मधुबाला सिन्हा

मोतिहारी,चम्पारण

6 जुलाई 2021

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image