चुपके से

डाॅ० पुनीता त्रिपाठी

पवन पुरवइया घुंघुटा उड़ा जाती है |

यादों में प्रिय के गोरी खो  जाती है||१||


 पपीहा से मिलने स्वाति बरस जाती है|

ऐसे हँसकर मुश्किलें हल हो जाती है||२||


अपनी हैं, कभी  गैरों सी हो जाती है |

हमारी बेबसी ही हम पर रो जाती है ||३||


दबे पांव  चुपके ही  से  आ  जाती है |

जिन्दगी ही है रुला के हंसा जाती है ||४||


  स्वरचित__ डाॅ० पुनीता त्रिपाठी

 शिक्षिका,  महराजगंज उ. प्र.

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
बेटी को अभिमान बनाओ
Image
सफेद दूब-
Image
माई के जइसन दुनियां में केहू नइखे$
Image