चुपके से

डाॅ० पुनीता त्रिपाठी

पवन पुरवइया घुंघुटा उड़ा जाती है |

यादों में प्रिय के गोरी खो  जाती है||१||


 पपीहा से मिलने स्वाति बरस जाती है|

ऐसे हँसकर मुश्किलें हल हो जाती है||२||


अपनी हैं, कभी  गैरों सी हो जाती है |

हमारी बेबसी ही हम पर रो जाती है ||३||


दबे पांव  चुपके ही  से  आ  जाती है |

जिन्दगी ही है रुला के हंसा जाती है ||४||


  स्वरचित__ डाॅ० पुनीता त्रिपाठी

 शिक्षिका,  महराजगंज उ. प्र.

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
क्षितिज के उस पार •••(कविता)
Image
मर्यादा पुरुषोत्तम राम  (दोहे)
Image