चुपके से

डाॅ० पुनीता त्रिपाठी

पवन पुरवइया घुंघुटा उड़ा जाती है |

यादों में प्रिय के गोरी खो  जाती है||१||


 पपीहा से मिलने स्वाति बरस जाती है|

ऐसे हँसकर मुश्किलें हल हो जाती है||२||


अपनी हैं, कभी  गैरों सी हो जाती है |

हमारी बेबसी ही हम पर रो जाती है ||३||


दबे पांव  चुपके ही  से  आ  जाती है |

जिन्दगी ही है रुला के हंसा जाती है ||४||


  स्वरचित__ डाॅ० पुनीता त्रिपाठी

 शिक्षिका,  महराजगंज उ. प्र.

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image