प्रकृति से प्रेम

 


पूनम शर्मा स्नेहिल

देती हमको जीवन दान ,

कर लो तुम उसका सम्मान।

नहीं मांँगती तुमसे कुछ भी ,

पर उससे चलते हैं सारे काम ।

छाव उसी की पाकर आता ,

तपती धूप में आराम ।

रुकती नहीं है गति कभी उसकी,

 चाहें सुबह हो चाहें शाम ।

आंँचल में इसके ही बसते ,

सारे तीरथ सारे धाम ।

प्यार से इसको देते हम ,

प्रकृति मां का बस इक नाम।

आज धरोहर पर अपनी ,

लग ना जाए पूर्ण विराम। 

प्रयत्न सभी को करना है,

 करते हैं जिसका गुणगान ।

आओ बताएंँ प्रकृति को हम ,

करते हैं उसका सम्मान।।


©️®️☯️

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image