बुरा जो देखन मैं चला

 


तरुणा पुंडीर 'तरुनिल'

हवा दूषित हुई, 

जल दूषित हुआ,

धरती कंक्रीट,

प्लास्टिक का कहर,

जहर हर शहर,

मानव ने जिसे छुआ।


कमी सरकार की?

दोष इसका

उसके सर मढ़ा।

अपने घर से फेंका

सड़कों पर कूड़ा,

गाड़ियाँ कई

छोड़ती धुंआ,

बजते हॉर्न,

भागती सड़कें,

प्रदूषण मानो

 एक बददुआ !


संकट में जीवन,

दूषित पर्यावरण,

घटते जंगल,

बेघर जीव-जंतु,

तापमान का पारा

ज्यों ज्यो चढ़ा!

पिघलते ग्लेशियर,

ग्लोबल वार्मिंग ,

विश्व गैस चेम्बर बना !


खोट किसमें?

दोष किसका ?

कमी कहाँ?

बुरा जो देखन 'मैं' चला।



Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
बेटी को अभिमान बनाओ
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image