वीरांगना झाँसी की रानी

 मुक्तक 



डॉ. अर्चना दुबे 'रीत'


चढ़कर घोड़े पर लड़ी

              वह रानी लक्ष्मीबाई थी।

अंग्रेजों से लड़ती रही

           कभी न हिम्मत हारी थी ।

लड़ती रही अंतिम सांस

            छबीली दुलारी पिता की।

मुँह की खानी पड़ी गोरो को

         खूब लड़ी मर्दानी थी ।।1।।


रण भूमि में झाँसी की रानी

         बढ़कर प्रबल प्रहार किया ।

स्वतंत्रता विगुल बजाकर

        परतंत्रता वहिष्कार किया ।

राजा गंगाधर से व्याही

           झांसी की रानी कहलायीं।

दुर्गा, काली बन मर्दानी

           रण में भीषण संहार किया ।।2।।


*डॉ. अर्चना दुबे 'रीत'*✍️

    मुम्बई

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image