मेरी अधूरी रचना

 

विक्रांत राजपूत चम्बली

लिखने चला ख्वाब अपने देखने लगा एक सपना।

ख्वाबों को कहाँ लिखा किसने इसलिए अधूरी है रचना।।


जीवन एक अधूरी रचना सा जो पल-पल ख्वाब देखता है।

गर सपने पूरे ना हो तो फिर अग्नि सा दहकता है।।


सपनों का कुछ भी पता नहीं नियति का खेल निराला है।

ख्वाबों की दुनिया उलझी सी जैसे मकड़ी का जाला है।।


सारी रचना पूरी होंगी लगता है एक सपना है।

ख्वाबों को कहाँ लिखा किसने इसलिए अधूरी रचना है।।


ख्वाबों, रचना में फर्क नहीं दोनों एक से दिखते हैं।

ना रचनाओं का मोल है ना ख्वाब कहीं पर बिकते हैं।।


नियति के इस मकड़जाल में ख्वाब न पूरे होते हैं।।

रचनाओं को लेकर भी हम हरदम शंकित होते हैं।।


होगी पूर्ण कि ना होगी आखिर यह भी एक सपना है।

ख्वाबों को कहाँ लिखा किसने इसलिए अधूरी रचना है।।



नाम - विक्रांत राजपूत चम्बली

पता - ग्वालियर (मध्य प्रदेश)

ईमेल पता - ndlodhi2@yahoo.com


© स्वरचित रचना एवं

सर्वाधिकार सुरक्षित

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
गीता सार
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image