बाल गीत

ओम प्रकाश श्रीवास्तव ओम

चुन्नू मुन्नू आज दौड़ रहे,

 हम भी आइसक्रीम खाएंगे।

 ठंडी-ठंडी मीठी-मीठी

आइसक्रीम से प्यास बुझाएंगे।


 तभी सोनू मोनू आ गए,

आइसक्रीम देखकर ललचागए।

सोनू मोनू चुन्नू मुन्नू से झगड़ पड़े,

 आइसक्रीम कोन जमीन में गिर पड़े।


चुन्नू मुन्नू सोनू मोनू पर चिल्लाए,

 तुम यहां झगड़ने क्यों आए।

हम दोनों के पैसे थे,

तुम दोनों हिस्सा बटाने आ गए।


अब हम दादा-दादी के पास जाएंगे,

 तुम दोनों की शैतानी सबको बताएंगे,

चाचा चाची ताऊ ताई से भी,

आज की घटना हम बताएंगे।


धीरे धीरे सब पहुंचे

बाबा दादी ताऊ ताई के पास,

सबने समझाया बच्चों को

आपस का झगड़ा लाये विनाश।


एक बात मानो बच्चों

झगड़ा नहीं किसी का आधार,

कोई भी समस्या हो,

करो शीतलता से विचार।



Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image