बाल गीत

ओम प्रकाश श्रीवास्तव ओम

चुन्नू मुन्नू आज दौड़ रहे,

 हम भी आइसक्रीम खाएंगे।

 ठंडी-ठंडी मीठी-मीठी

आइसक्रीम से प्यास बुझाएंगे।


 तभी सोनू मोनू आ गए,

आइसक्रीम देखकर ललचागए।

सोनू मोनू चुन्नू मुन्नू से झगड़ पड़े,

 आइसक्रीम कोन जमीन में गिर पड़े।


चुन्नू मुन्नू सोनू मोनू पर चिल्लाए,

 तुम यहां झगड़ने क्यों आए।

हम दोनों के पैसे थे,

तुम दोनों हिस्सा बटाने आ गए।


अब हम दादा-दादी के पास जाएंगे,

 तुम दोनों की शैतानी सबको बताएंगे,

चाचा चाची ताऊ ताई से भी,

आज की घटना हम बताएंगे।


धीरे धीरे सब पहुंचे

बाबा दादी ताऊ ताई के पास,

सबने समझाया बच्चों को

आपस का झगड़ा लाये विनाश।


एक बात मानो बच्चों

झगड़ा नहीं किसी का आधार,

कोई भी समस्या हो,

करो शीतलता से विचार।



Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image