हमारे गांवों की मूल भावनाएँ

 


श्रीकांत यादव

माना चौडी सड़कें नहीं यहाँ हैं, 

फिर कोलाहल और शोर नहीं है |

महल अटारी के दर्शन कम हैं, 

किन्तु मानवता कमजोर नहीं है ||


ले बहे पवन प्रेरणा बागों से, 

आवश्यक जीवन रस फसलों से |

द्वार खड़े वृक्ष शीतलता दे जाते, 

है राहत प्रदूषण के मसलों से ||


निर्द्वद्व रजनी है निस्तब्ध यहाँ, 

ले करवट सोती शांत चुपचाप |

यहाँ धमाचौकड़ी चित्कार नहीं है, 

सुनाई पड़ती है स्पष्ट पदचाप ||


अंचल पूर्व के बाएं कोने से, 

बालारुण की लालिमा छाती |

लाल दिशा कर मुदित ज्योति से, 

दिनकर की रक्तिम प्रतिमा आती ||


झिलमिल झिलमिल दिशा दमकती, 

सूरज का आभामण्डल सजता है |

मंदिर में बजते घंटा घडियालों से, 

हुआ सवेरा ऐसा लगता है ||


चांदी सी दमके तुहिन तृणों पर, 

खग कलरव से बाग वन चहके, 

शीतल मंद समीर बहने पर, 

चहुंदिश सुगंध मह मह महके ||


कुटुंब भावना और भाई चारा ,

नगरों से अभी मजबूत यहाँ |

शिक्षा स्वास्थ्य आर्थिक संसाधन, 

हैं यत्र तत्र अभी सर्वत्र कहां ||


दमित इच्छाएं उत्साहित भाव से, 

भरण पोषण का है पुष्ट विचार |

न छल कपट न दंभ द्वेष भावना, 

राजनीति परस्त है सुंदर व्यवहार ||


अलसाए मौसम सी जीवन शैली, 

मंद मंद पग धर आगे बढती है |

नित्य निमित्त कृषि कर्म के, 

जीवन जिजीविषा से लडती है ||


उदासीन जीवन का अल्हणपन,

फक्कड स्वभाव कुछ अलमस्त हैं |

यदुवंशी मस्ताए जीवन पथ पर,

अपने नियत कार्यों में व्यस्त हैं ||


श्रीकांत यादव

(प्रवक्ता हिंदी)

आर सी-326, दीपक विहार

खोड़ा, गाजियाबाद

उ०प्र०!

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image