खुद को रखों अपडेट

 


मुकेश गौतम

               (दोहे)

======================

मास्क मुँह से हटा दिया,मिली क्या थोड़ी छूट।

मानों विपदा जा चुकी,वापस अपने रूठ।।

---------‐---------------------------------

थाना चौकी देख कर ढक लेते हैं कान।

बीमारी का डर कहाँ,डर कोरा चालान।।

------------------------------------------

नियम धर गयें ताक में,फिर से होती चूक।

रायचन्दों की राय से,समझदार भी मूक।।

-------------------------------------------

टीकें पर भी टिप्पणी,करतें हैं कुछ लोग।

उनका कमियाँ ढूँढना,बना मानसिक रोग।।

--------------------------------------------

संकट अब भी थमा नहीं,थोड़ा लिया विराम।

सावधान रहकर हमें,करना हैं हर काम।।

--------------------------------------------

सुरक्षा का ही कवच हैं,यह टीकें का डोज।

वायरस से लड़ने को,पैदा करता फौज।।

--------------------------------------------

सजग रहों हर मोड़ पर,कठिन दौर है यार।

जब तक पूरा ना रुकें,यह अदृश्य प्रहार।

--------------------------------------------

खुद को अब खुद ही रखें,खुद के लिए अपडेट।

काम जरूरी हो तभी,खोलें घर का गेट।।

=======================

                        रचनाकार

                     -मुकेश गौतम

                  ग्राम डपटा बूंदी(राज)

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image