आ सूरज हम साथ में खेलें

 


विमल सागर

आ सूरज हम साथ में खेलें

किरण बिखरतीं चमक बिखेरें

जग रोशन उजियारा होगा

फूलों सी मुस्कान बिखेरें,


आ सूरज हम साथ में खेलें,

कल-कल नदियों की सुर सरिता

मंद मधुर बयार खुशबू की

पंक्षी सुरलय तान बिखेंरें,


भँवर अधर रस फूलों का करते 

महक उठें बचपन की बगिया

फूलों सी मुस्कान बिखेंरें

आ सूरज हम साथ में खेलें,


उमंग भरे उत्साह पूर्ण दिन

बचपन उम्र साथ खेलतें

छूटे कल के खेल अधूरे

आ सूरज हम साथ में खेलें।।



विमल सागर

उत्तर प्रदेश

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
गीता सार
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image