आ सूरज हम साथ में खेलें

 


विमल सागर

आ सूरज हम साथ में खेलें

किरण बिखरतीं चमक बिखेरें

जग रोशन उजियारा होगा

फूलों सी मुस्कान बिखेरें,


आ सूरज हम साथ में खेलें,

कल-कल नदियों की सुर सरिता

मंद मधुर बयार खुशबू की

पंक्षी सुरलय तान बिखेंरें,


भँवर अधर रस फूलों का करते 

महक उठें बचपन की बगिया

फूलों सी मुस्कान बिखेंरें

आ सूरज हम साथ में खेलें,


उमंग भरे उत्साह पूर्ण दिन

बचपन उम्र साथ खेलतें

छूटे कल के खेल अधूरे

आ सूरज हम साथ में खेलें।।



विमल सागर

उत्तर प्रदेश

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image