आचरण

मानसी मित्तल

कुशल आचरण से बनें मानव तभी महान।

विन्रम स्वाभव ही बनाता जग में हमारी पहचान।।

******************

शिष्ट यदि व्यवहार हो मिले उसी को मान।

सरल वाणी से बनें और अधिक गुणवान।

*******************

यदि विरासत में मिले संस्कारों की खान।

सुंदर आचरण से बनें हमारे कुल की पहचान।

*******************

अच्छे आचरण से मिले जग में सर्वोच्च स्थान।

इसी आचरण से अवगत होता है इंसान।।

*******************

मधुर आचरण से होता है तन मन का दर्पण।

सच्चा जीवन वही जीते हैं जो करते इसका विचरण।।

*******************

सभ्य आचरण से ही मिले हमें सच्चा ज्ञान।

अच्छे सत्कर्म से बनें हम सभी विद्धवान।।


स्वरचित✍️

मानसी मित्तल

शिकारपुर

जिला बुलंदशहर

उत्तर प्रदेश

*******************

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
बाराबंकी के ग्राम खेवली नरसिंह बाबा मंदिर 15 विशाल मां भगवती जागरण बड़ी धूमधाम से मनाया गया
Image