बारिश

 


रोशनी किरण 

तेरी बारिश में प्रभू , बह जाए सब रोग ।

जनजीवन फिर हो शुरू , हो ऐसा संयोग ।।

हो ऐसा संयोग , करो प्रभु अपनी किरपा ।

कोरोना का काल , प्रभू जी क्यों है बरपा ?

कहे " किरण" कर जोर , हुए अब हम लावारिस ।

बह जाए यह रोग , सभी , प्रभु तेरी बारिश ।।


_____ रोशनी किरण 

         २७ जून २०२१

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
पापा की यादें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image