गज़ल

 


हरप्रीत कौर

बिन तुम्हारे कोई दिन गुजरता नही।

जख्म ऐसा लगा है जो भरता नहीं।।


 याद करते हुए दिल ये थकता नहीं।

आंखो से अक्स भी तेरा झरता नही।।


बेकरारी को मिलता नहीं चैन अब।

जब ये दिल बिन तुम्हारे धड़कता नही।।


  बिन तेरे रातें सूनी सी लगतीं सनम।

क्यों तुझे प्रीत का दर्द दिखता नहीं।।


हरप्रीत कौर

शाहदरा, दिल्ली

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image