कब तक बरसना है

 


अनुपम चतुर्वेदी

बता दो घटा काली कब तक ठहरना है,

ऋतु आ गई मतवाली,कब तक बरसना है।


सप्ताह भर से रिमझिम रिमझिम फुहार है,

कब होगी गागर खाली,कब तक उमड़ना है।


आम पकने पर आमादा,सब्जियां सड़ रही हैं,

कब निकेलेगी धूप ? अभी कब तक सिहरना है।


हरियाली की चादर ओढ़े धरा लगे अति प्यारी

मखमली विछौने पर,कब तक विचरना है।


पेड़ों पर कोयल कूक रही है दादुर टर-टर बोले,

खिल उठी चमेली,कहो कब तक महकना है।


अनुपम चतुर्वेदी

, सन्त कबीर नगर, उ०प्र०

रचना स्वरचित, सर्वाधिकार सुरक्षित

मोबाइल नं०-9936167676

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image