ये इश्क़ है


ख़ुशबू पाण्डेय


ना कोई मन्नत ना जन्नत ना ख़्वाबों की हवेली है

ये इश्क़ है इश्क़ बेहद कमज़ोर ढेरी है


ना मासूम है ना-मालूम है ना तेरा क़रीबी है

ये इश्क़ है इश्क़ बेहद फ़रेबी है


ना मुहब्बत ना मुरव्वत ना दिल की कोई अमीरी है

ये इश्क़ है इश्क़ में बेहद फ़क़ीरी है 


ना इबादत ना चाहत ना ख़्वाहिश अधूरी है

ये इश्क़ है इश्क़ में बेहद फ़ुतूरी है


ना शबाब ना शबनम ना वस्ल ही यक़ीनी है

ये इश्क़ है इश्क़ में बेहद बद गुमानी है


ना इज़्ज़त ना लज़्ज़त ना कोई राजा रानी है

ये इश्क़ है इश्क़ बेहद बिखरी कहानी है


ना कोई मन्नत ना जन्नत ना ख़्वाबों की हवेली है

ये इश्क़ है इश्क़ बेहद कमज़ोर ढेरी है


ख़ुशबू पाण्डेय, लखनऊ

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image