मुत्तक

 


डॉ. अर्चना दुबे 'रीत'


खत पढ़कर मुझे बहुत सुकून मिला 

खत्म हो गया अब मन का गिला

तुम मेरे हृदय के सरताज हो

तभी मन से मन बार बार मिला ।1


मौन में जबाब की तलाश किजिये

हर गलत बात नज़रअंदाज़ किजिये

खत मुझे दिये अब मैं समझ गयी

अब प्यार से दिवस सुरुवात किजिये ।2


प्रियतम तुम्हारे याद में दिवानी हो गयी

लोग कहते है अब मुझे मस्तानी हो गयी

भेजी हूँ लिखकर पाती उसका जबाब दो

कब से निहारु राह नयन वारि वारि हो गयी ।3


*कुंडलिया*


पाती लिखकर प्रियतमा, भेजे प्रियतम पास ।

घर आ जाओ साजना, मन हो रहा उदास ।

मन हो रहा उदास, विरह की अग्नि जलायें ।

मन की गति गम्भीर, उसे कैसे समझाये ।

'रीत' रही समझाय, विवशता क्यू हो लाती ।

लिख दो दिल की बात, पढ़ेंगे प्रियतम पाती ।।


**✍️

Popular posts
सफेद दूब-
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
पापा की यादें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image