ऐ जिंदगी


 उषा शर्मा त्रिपाठी

अब टुकड़ों टुकड़ों में तुम मुझे मिलती हो ऐ जिंदगी, 

अब तार-तार तुम मेरी सांसों से गुजरती हो ऐ जिंदगी! 

रूह से तुझे पाने की चाहत और तुझसे मेरी ये दुरियां, 

रुबरु नहीं तुम मेरे इन लबों से तुझे छू लेती हुं ऐ जिंदगी! 

तेरी उल्फत तेरे वादे-वफ़ा कहीं मिलते नहीं इस जहां में, 

चल क्षितिज के पार चलें जहां बिछड़े दिल मिलते हैं ऐ जिंदगी!

         

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
बाराबंकी के ग्राम खेवली नरसिंह बाबा मंदिर 15 विशाल मां भगवती जागरण बड़ी धूमधाम से मनाया गया
Image