पहली बारिश

 


कल्पना भदौरिया "स्वप्निल "


अब छेड़ी सरगम फूलों ने


ख़्वाबों में खोई मीठी नींदे


के पहली बारिश है ------


अहसास कराती तेरी बातों का


मीठी यादों कातेरे जज्बातों का


मन के बादल मन में उमंग भरे


के पहली बारिश है ---------


तू हीं पूरित है अब मेरे जीवन में


गूंजे आवाज तेरी हरपल मेरे मन में


तू हीं प्रेम मेरा अनुभूति करें


के पहली बारिश है ------------


सरक गया रात में घुंघट चाँद मुस्कुराया


उस पल तेरा चेहरा याद बहुत आया


 बहके है कदम पुरवाई के   

   

के पहली बारिश है ---------------


जाग उठी अजब ख्वाहिशे ले अंगड़ाई


सोंधी सोंधी ख़ुशबू मिट्टी से आयी


नव प्रेम में नवल रंग भरे


के पहली बारिश है ----------------


¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥

कल्पना भदौरिया "स्वप्निल "

उत्तरप्रदेश


¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image