नारी अस्मिता

 


नीलम राकेश 

मत बनने दो 

मुहावरा, 

नारी अस्मिता को ।


बनो तुम, 

पहचान 

नारी अस्मिता की । 


गृहस्थी की 

गाड़ी, 

तुम चलाती । 


ट्रेन, जहाज 

तुम ही 

तो उड़ाती हो ।


फिर 

क्यों तुम 

अबला कहलाती हो ?


पहन कर 

खाकी 

करती रक्षा सबकी ।


खेलों में 

मेडल की 

करती बरसात । 


सीमा पर 

कंधे से कंधा मिला 

रहती तैनात । 


नारी, 

तुम ही हो 

नारी अस्मिता की पहचान ।


नीलम राकेश 

610/60, केशव नगर कालोनी 

सीतापुर रोड, लखनऊ 

उत्तर-प्रदेश-226020, neelamrakeshchandra@gmail.com

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image