राही सोच




मनु प्रताप सिंह 

जब तक खग का गेह नही बनता,

तब तक चलती चोंच।

रुके-झुके को क्या सहारा मिलेगा,,

राही सोच ओ राही सोच।।



सुप्त शोणित फिर उफने।

रुके पसीने,फिर बहने।

कभी भी मेहनती ऒर,,

पुरुषार्थ न बनता बोझ।।

राही सोच ओ राही सोच।1।



पंथी फिर,तुझे उठना होगा।

मंजिल पाने,तुझे चलना होगा।

नहीँ ये स्वार्थी जग,शिकार करेगा,

जैसे गिद्ध माँस को नोंच।

राही सोच ओ राही सोच।4।


शांत समुन्द्र से,कब बचेगा।

संघर्ष की कब, गाथा रचेगा।

पंथी जिंदगी -अवसर हैं तो,

यह न मिलता रोज।

राही सोच ओ राही सोच।3।


परवाने कभी, पावक से नहीं ड़रते।

पंथवीर कभी,काँटों से नहीँ सिसकते।

धरती को पावन कर दे,

तेरे चलते कदम ओज।

राही सोच ओ राही सोच।2।


मनु प्रताप सिंह 

चींचडौली (काव्यमित्र),खेतड़ी

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image