राही सोच




मनु प्रताप सिंह 

जब तक खग का गेह नही बनता,

तब तक चलती चोंच।

रुके-झुके को क्या सहारा मिलेगा,,

राही सोच ओ राही सोच।।



सुप्त शोणित फिर उफने।

रुके पसीने,फिर बहने।

कभी भी मेहनती ऒर,,

पुरुषार्थ न बनता बोझ।।

राही सोच ओ राही सोच।1।



पंथी फिर,तुझे उठना होगा।

मंजिल पाने,तुझे चलना होगा।

नहीँ ये स्वार्थी जग,शिकार करेगा,

जैसे गिद्ध माँस को नोंच।

राही सोच ओ राही सोच।4।


शांत समुन्द्र से,कब बचेगा।

संघर्ष की कब, गाथा रचेगा।

पंथी जिंदगी -अवसर हैं तो,

यह न मिलता रोज।

राही सोच ओ राही सोच।3।


परवाने कभी, पावक से नहीं ड़रते।

पंथवीर कभी,काँटों से नहीँ सिसकते।

धरती को पावन कर दे,

तेरे चलते कदम ओज।

राही सोच ओ राही सोच।2।


मनु प्रताप सिंह 

चींचडौली (काव्यमित्र),खेतड़ी

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image
स्वयं सहायता समूह ग्राम संगठन का गठन
Image
मधुर वचन....
Image