जो आया है सो जाएगा

 

ब्रम्हाकुमारी मधुमिता 'सृष्टि '

 जो आया है, सो जाएगा

 ना कोई रहा है, ना कोई रह पाएगा

 गुजरते वक्त के साथ, ये वक्त भी गुजर जायेगा


 ना थको तुम, ना डरो तुम

हौसला रख, उड़ो तुम 

शक्ति का अवतार हो तुम 

परमपिता की संतान हो तुम 

ये कहर भी जायेगा 

ये जहर भी जायेगा 

लौटेगा चैनो-अमन 

झूमेगा संग हमारे फिर से ये गगन 

 खुशियों की बरसात से महकेगा पवन 

  चलती रहो, संभलते रहो, संभालते रहो

 जीवन की हर मौज के संग बहते  रहो

 यह जीवन किसी के काम आएगा

 इतिहास  जिसे सदा दोहराएगा 

 हमारी शक्ति ही  कोरोना  को हराएगा 

 जो आया है, सो जाएगा

 ना कोई रहा है ना कोई रह पाएगा

 गुजरते वक्त के साथ ये वक्त भी गुजर जायेगा


 मैं घोषणा करती हूं कि मेरी यह रचना मौलिक स्वरचित और अप्रकाशित है|

 ओम शांति 

नाम - ब्रम्हाकुमारी मधुमिता 'सृष्टि '

पूर्णिया 

बिहार

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image