जो आया है सो जाएगा

 

ब्रम्हाकुमारी मधुमिता 'सृष्टि '

 जो आया है, सो जाएगा

 ना कोई रहा है, ना कोई रह पाएगा

 गुजरते वक्त के साथ, ये वक्त भी गुजर जायेगा


 ना थको तुम, ना डरो तुम

हौसला रख, उड़ो तुम 

शक्ति का अवतार हो तुम 

परमपिता की संतान हो तुम 

ये कहर भी जायेगा 

ये जहर भी जायेगा 

लौटेगा चैनो-अमन 

झूमेगा संग हमारे फिर से ये गगन 

 खुशियों की बरसात से महकेगा पवन 

  चलती रहो, संभलते रहो, संभालते रहो

 जीवन की हर मौज के संग बहते  रहो

 यह जीवन किसी के काम आएगा

 इतिहास  जिसे सदा दोहराएगा 

 हमारी शक्ति ही  कोरोना  को हराएगा 

 जो आया है, सो जाएगा

 ना कोई रहा है ना कोई रह पाएगा

 गुजरते वक्त के साथ ये वक्त भी गुजर जायेगा


 मैं घोषणा करती हूं कि मेरी यह रचना मौलिक स्वरचित और अप्रकाशित है|

 ओम शांति 

नाम - ब्रम्हाकुमारी मधुमिता 'सृष्टि '

पूर्णिया 

बिहार

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image