चा को गुणगान

  मालवी कविता 



      हेमलता शर्मा 'भोली बेन' 

मालवा को मनख,

सीदो ‌सट रे ।

बस ओके 'चा' नी पाव,

तो बांको हुई जाय ।।


तम उका घरे जाव, 

तो मीठो चट रे ।

बस उको 'चा' को आफर ठुकरई दो,

तो बांको हुई जाय ।।


जुंवार का रोटा ने भाजी पिरेम से खाय,

भोलो भट्ट रे ।

बस उके 'चा' को आधो भर् यो मग्गो पकड़ाव, 

तो बांको हुई जाय ।।


सगई करने जाय,

तो नरम लुच्च रे ।

पण छोरी का हाथे टिरे में 'चा' नी आय,

तो बांको हुई जाय।।


दन हो या रात ठण्ड हो या बरसात,

उको पिरोगराम बारां मैना फिटो फिट्ट रे ।

बस चा में सक्कर कम होय, 

तो बांको हुई जाय ।।


'चा' की खातर कोरा कग्गज पे अंगूठो लगई दे, 

गेल्यो गट्ट रे ।

कतरो ज खवई दो पण 'चा' नी पाव,

तो बांको हुई जाय ।।


 स्वरचित, मौलिक एवं अप्रकाशित

   सुश्री हेमलता शर्मा 'भोली बेन' 

   इंदौर, मध्यप्रदेश

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
क्षितिज के उस पार •••(कविता)
Image
मर्यादा पुरुषोत्तम राम  (दोहे)
Image