नज्म

 



डॉ उषा किरण

बेचैनी को जो दे करार तुम वही बात करो। 

हों लब खामोश निगाहों से मुलाकात करो। 


न जाओ कहीं अब दूर नजर से दिलवर, 

हर एक पल को मेरे वस्ल की रात करो। 


गूँजने दो कोई नगमा खामोशी में भी, 

इस कदर इश्क में अपने ख्यालात करो। 


कुछ कहती सी लगे चाँदनी रातें अक्सर, 

रहो न दूर इश्क की शबनमी बरसात करो। 


है ये गेसुओं की छाँव बस तेरे लिए 'उषा '

बंदगी हो हर पल को रौनक-ए-हयात करो। 


डॉ उषा किरण

पूर्वी चंपारण, बिहार

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image