नज्म

 



डॉ उषा किरण

बेचैनी को जो दे करार तुम वही बात करो। 

हों लब खामोश निगाहों से मुलाकात करो। 


न जाओ कहीं अब दूर नजर से दिलवर, 

हर एक पल को मेरे वस्ल की रात करो। 


गूँजने दो कोई नगमा खामोशी में भी, 

इस कदर इश्क में अपने ख्यालात करो। 


कुछ कहती सी लगे चाँदनी रातें अक्सर, 

रहो न दूर इश्क की शबनमी बरसात करो। 


है ये गेसुओं की छाँव बस तेरे लिए 'उषा '

बंदगी हो हर पल को रौनक-ए-हयात करो। 


डॉ उषा किरण

पूर्वी चंपारण, बिहार

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image