ख़ुशबू के अश'आर



भुला के सब ग़म चलो गले से हयात को हम लगा के देखें

है कुछ नहीं ग़म के इस जहां में चलो ज़रा मुस्कुरा के देखें



अपने दिल में उम्मीदों का दरिया आओ भर लें हम

ज़िंदा हैं तो जीने लायक दुनिया आओ कर लें हम


ख़ुशबू पाण्डेय, लखनऊ

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image