मज़दूर तुझे सलाम

 


       नवीन "नव 'बीगोद

ईट से जो ईट मिले इमारत बनती हैं ।

कंधे से कंधे मिले ताकत बढ़ती है ।।

देश की निरंतर तरक्की जो हों रही ।

उसमें मजदूरों की मेहनत झलकती है ।।


भोर से साँझ ,चलता है वो ।

खून -पसीना ,बहाता है वो ।।

झोपड़ी में रहकर भी खुश है ।

महलों की सौगात देता हैं वो ।।


जगमगाती जो महफ़िल ये सज रही ,

इसके खातिर उनकी काया सुलगती है ।


नसीब हो उसको पुराने कपड़े ।

हमको वो देता नये -नये कपड़े ।।

चमचमाती कार चमकती सड़के ।

अरमान पूरे करता वो सबके ।।


कील से लेकर गगन चुंबी पुल तक ,

हर चीज उसकी मेहनत से बनती है ।


मेहनत ही पूजा ,काम ही खुदा है ।

मेहनत ही देश हेतु उसकी वफ़ा है ।।

उसको सताना ,अक्षम्य ख़ता है ।

संभल जा मालिक,मालिक ख़फ़ा है ।।


करलों कदर, मज़दूर की तुम ,

इनकी बदौलत दुनिया सवरती है ।

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image