ख़ुशबू के मुक्तक



ख़ुशबू पाण्डेय

दिल में नहीं कोई भी हम सवाल रखेंगे।

तुमसे है मुहब्बत यही आमाल रखेंगे।

कितना है दिल में प्यार तुम्हें कैसे दिखाएं,

चेहरा तुम्हारा आंखों में संभाल रखेंगे।

🌼💙🌼💙🌼💙🌼💙


 🌼💙🌼💙🌼💙🌼💙

तुम जो साथ हो तो मुकम्मल सहर लगे।

मुश्किल हो चाहे जो भी मनोरम दहर लगे।

चलते रहें हम यूं ही मुहब्बत की छांव में,

हो धूप भी तो हमको शाम की पहर लगे।

🌼💙🌼💙🌼💙🌼💙


- *ख़ुशबू पाण्डेय, लखनऊ*

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भैया भाभी को परिणय सूत्र बंधन दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image