पावस के मेघ-!

 


शरद कुमार पाठक


           (दोहा)

१) उमड़ते और घहरते

ये पावस के मेघ

कौंधा चमके घनप्रिया

रह रह बरसे मेघ


२)गिरति बूंद अवनी बहे

बहे धरा रेवान

होती बरषा सुखद की

मनुज हृदय अब चैन


३)छा रहें हैं सघन काले

अब मेघ वर्षा के लिए

झूमते हैं तरु विटप

मानो अगवानी के लिए


४)होति न कौंधा के बिना

अब पावस की रैन

चपला चमके कौंधा लपके

और दादुर के बैन


            (शरद कुमार पाठक)

डिस्टिक------(हरदोई)

ई पोर्टल के लिए

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image