असमंजस

  


अर्पणा दुबे

असमंजस  को तुम दूर करो

यथार्थ हो कर चिन्तन करो

इधर-उधर की तुम बातें छोड़ो

प्रभु पर  तुम विश्वास किया करो,


असमंजस  जो तुम्हारे मन में

निंः शब्द होकर  तुम सोचा करों

मिलेंगे कितने यहां फ़रेबी 

अफवाहों पर ध्यान दिया न करो।


अर्पणा दुबे

 अनूपपुर।

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image