ढलती सांझ की बेला में..

 


उषा शर्मा त्रिपाठी

इस ढलती सांझ की बेला में मैंने भी दिल की दहलीज पर आशा का एक दीप जलाकर रखा है, 


मेरे खयालों में रहती हो तुम मेरी सांसों में बसती हो पर कभी मेरे रूबरू नहीं होती हो ऐ जिंदगी! 


ढलते रहे अरमान मेरे इस ढलती हुई सांझ के साथ और रोती रहीं रातें मेरी ओस की बूंदों के साथ, 


इंतेहा हो गई तेरे बेइंतहा इंतज़ार की अब तो आकर मुझे को अपने गले से लगा जा ऐ जिंदगी! 

                     

Popular posts
सफेद दूब-
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
पापा की यादें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image