रिश्तों के बाज़ार में

 


रेखा रानी

रिश्तों के  बाज़ार में,

   स्वार्थ के व्यापार में,

 अक्सर सिसकते देखा है,

 भावों को मरते देखा है।

   मैंने पल -पल

   दम घुट घुट कर,

   झूठ के आगे

  सत्य को झुकते देखा है।

  कई बार लुढ़कते देखा है।

  शीशे के महलों से टकराकर,

  अट्टहास  फरेबी ,मक्कारी,

  निश दिन करती  प्रहार  यहां,

 एहसास ,प्यार अंतर्मन में,

 बस दम तोड़ते देखा है।

 रंग -मंच बनी इस दुनिया में,    

आ जाए कब, कौन मुखौटे में।

 दानवता कब हावी होकर,

 मानवता का उपहास करे।

 रेखा  खुशबू से भरे हुए फूलों को 

बस खार से घायल देखा है।

      रेखा रानी

विजय नगर 

गजरौला

जनपद अमरोहा 

उत्तर प्रदेश।

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image