लफ्ज़ है आईना

 


मधु अरोड़ा

तेरे मेरे मन की बात बताते ,

कभी खुशी कभी गम दर्शाते।।

 खुशी से भावविभोर चेहरा,

 लफ्जों में खुशी दर्शाता चेहरा ।।

 लफ्ज़ हैं आईना।।

 दुख में आंखों के आं तो मेंसू ,

 मन की व्यथा बताते आंसू ।

 लफ्ज़ तुम्हारा भाव दिखाते,

  लफ्ज़ हैं आईना ।।

  गुस्सातिरेक से बात 

  तुम्हारी बदल जाती,

   मनोदशा तुम्हारी दिखलाते ।

   लफ्ज़ हैं आईना ।।

   कितना प्यार तुम्हारे दिल में,

    प्यार को परिभाषित करते ।

    प्यार का अतिरेक है बनते ,

    लफ्ज़ है आईना।।

     लफ्जों की क्या बात करो तुम ,

     लफ्जों से शुरू बात है ।

     लफ्ज़ परवरिश छलकाते ,

     चरित्र का आईना बन जाते ।

     लफ्जों की महिमा भारी 

     इनसे चलती दुनिया सारी ।

     लफ्ज़ है आईना।।

                 दिल की कलम से

                 

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image