जाने कहाँ गये वो दिन


डा0 प्रमोद शर्मा प्रेम


याद आते है अभी भी

भूल न पाये  कभी भी

जाने कहाँ गये वो दिन|1


नीम की वो छाँव ठण्डी

महकती गीली सी मिट्टी

जाने कहाँ  गये वो दिन|2


तपती दोपहरी तेज धूप

नीचा सा पेड खट्टा आम

जाने कहा ..गये वो दिन|3


खेत चटनी.व मीसी रोटी

 प्याज गुड घडे का पानी

जाने कहाँ ...गये वो दिन|4


देर से आना डाँट माँ की

और दुलारती... हुई दादी

जाने कहाँ ...गये वो दिन|5


सुबह ही ताजा सा गन्ना

बासी रोटी मक्खन मट्ठा

जाने कहाँ ..गये वो दिन|6


नन्ही ...चिडिया तितली

मुर्गे व बाँग कौवे व काँव

जाने कहाँ गये ..वो दिन|7


धमा चौकडी गिल्ली डण्डा

माँ का चिमटा व थप्पड

जानें कहाँ गये... वो दिन|8


प्यारे बचपन के सौ काम

गाय बछड़े गोधूलि शाम

जाने कहाँ ...गये वो दिन |9

डा0 प्रमोद शर्मा प्रेम नजीबाबाद बिजनौर

Popular posts
सफेद दूब-
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
पापा की यादें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image