छाया है पिता

 



डाॅ सरला सिंह "स्निग्धा"

बरगद की घनी छाया है पिता

छाँव में उसके भूलता हर दर्द। 


पिता करता नहीं दिखावा कोई 

आँसू छिपाता अन्तर में अपने।

तोड़ता पत्थर दोपहर में भी वो

चाहता पूरे हों अपनों के सपने।

बरगद की घनी छाया है पिता

छाँव में उसके भूलता हर दर्द। 


भगवान का परम आशीर्वाद है

पिता जीवन की इक सौगात है।

जिनके सिर पे नहीं हाथ उसका

समझते हैं वही कैसा आघात है।

पिता का साथ  कर देता सहज

मौसम कोई भी हो गर्म या सर्द।


पिता भी है प्रथम गुरूदेव जैसा 

सिखाता पाठ है जीवन के सही।

दिखाता है कठोर खुद को मगर

होता है कोमल नारियल सा वही।

पिता होता है ईश्वर के ही सरीखा

झाड़ता जो जीवन पर से हर गर्द। 


डाॅ सरला सिंह "स्निग्धा"

दिल्ली

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image